LIVE: अस्ताचलगामी भगवान सूर्य को दिया जा रहा है पहला अर्घ्य


 



Description             Price : 0 INR

 

महापर्व छठ के तीसरे दिन आज अस्ताचलगामी सूर्य को अर्घ्य 
दिया जा रहा है। बिहार के विभिन्न नदियों और तालाबों के 
साथ ही लोग घऱ की छतों पर बने कुंड में अर्घ्य दे रहै हैं।
पटना [जेएनएन]। आस्था का महापर्व छठ के तीसरे दिन आज 
अस्ताचलगामी सूर्य को छठ व्रती अर्घ्य दे रही हैं। वैसे अर्घ्य का 
शुभ मुहुर्त पांच बजकर तेरह मिनट बताया गया है। राजधानी 
पटना के गंगा घाट के साथ ही बिहार की विभिन्न नदियों और 
तालाबों में भगवान भास्कर को अर्घ्य दिया जा रहा है। घाटों 
पर उत्साह और भक्ति चरम पर है। 

पटना में गंगा घाट पर उत्सव सा नजारा दिखाई दे रहा है। हर 
कोने से लोग निकलकर आज छठ का पहला अर्घ्य देने घाटों 
पर पहुंच गए हैं। छठ पर्व की यही खासियत है कि इस पूजा में 
किसी ब्राह्मण की जरूरत नहीं होती और साक्षात सूर्य, जिनसे 
पृथ्वी पर जीवन है उनकी इस पर्व में आराधना की जाती है 
और उदीयमान के साथ ही अस्तााचलगामी सूर्य की भी छठ में 
उपासना की जाती है।
सूर्य को अर्घ्य देने के लिए लोग नदियों तालाबों में सूप में रखा 
प्रसाद हाथों मे उठाकर भगवान भास्कर को नमन किया और 
सुख समृद्धि की कामना की। महिलाएं इस व्रत को ज्यादा करती 
हैं। यह पर्व नहीं महापर्व कहा जाता है जिसमें सूर्य की बहन 
षष्ठी को माता मानकर उनकी पूजा की जाती है।
पटना के साथ ही बिहार के विभिन्न हिस्सों में छठ पूरे उत्साह 
के साथ मनाया जा रहा है। अररिया के नरपतगंज जेबीसी नहर 
छठ घाट पर विधायक देवयंती यादव ने पूजा अर्चना की और 
अर्घ्य दिया। वहीं, पूर्णिया के धमदाहा के मीरगंज घाट पर 
लोगों की भीड़ जुटी है। सुपौल के गांधी मैदान घाट पर भी छठ 
की पूजा हुई।

शिवहर में छठ घाट पर पहुंचे डीएम राजकुमार, एसपी पीएन 
मिश्रा, नपं अध्यक्ष अंशुमान नंदन एवं अन्य वरिष्ठ अधिकारी 
व गणमान्य लोग और सबको हार्दिक शुभकामनाएं दीं। 
मुजफ्फरपुर में अपने आवास पर पूर्व मंत्री रमई राम ने छठ 
किया।
मंगलवार को नहाए-खाए के साथ शुरू हुए इस महापर्व के दूसरे 
दिन बुधवार को खरना मनाया गया। खरना का प्रसाद ग्रहण 
करने के साथ ही व्रतियों का 36 घंटे का महाव्रत शुरू हो गया। 
गुरुवार को व्रती गंगा घाटों पर अस्ताचलगामी सूर्य को अघ्र्य 
देंगे। शुक्रवार की सुबह उगते सूर्य को अघ्र्य देने के बाद व्रती 
पारण करेंगीं।  
कलेक्ट्रेट व दीघा घाट पर उमड़े श्रद्धालु

छठ को लेकर गंगा घाट  रोशनी से नहा उठे हैं। सुरक्षा के पूरे 
इंतजाम किए गए हैं। छठ व्रतियों के साथ परिजन भी गंगा 
घाटों पर इंतजाम से गदगद हैं। बुधवार को सर्वाधिक भीड़ 
कलेक्ट्रेट और दीघा घाट पर हुई। स्थानीय बस्तियों के व्रती नंगे 
पांव पैदल घाट तक पहुंच रहे थे, तो दूर-दराज के मोहल्ले से 
आने वाले व्रती अपने-अपने वाहनों से घाट तक पहुंचे। 
अधिकांश महिला व्रती घरों से छठी माई और सूरज देव के गीत 
गाते हुए घाट तक पहुंच रही थीं। 
बिहार समेत देश के कई राज्यों में दिया जा रहा है अर्घ्य

बिहार समेत देश के कई राज्यों में सूर्य को अर्घ्य दिया जा रहा 
है। इस त्योहार में श्रद्धालु इसके तीसरे दिन डूबते सूर्य को और 
चौथे व अंतिम दिन उगते सूर्य को अर्ध्य देते हैं। पहले दिन को 
नहाय-खाय के रूप में मनाया जाता है जिसमें व्रती स्नान के 
बाद पारंपरिक पकवान तैयार करते हैं। दूसरे दिन को खरना 
कहा जाता है, जब श्रद्धालु दिन भर उपवास रखते हैं और 
सूर्यास्त के बाद खीर-रोटी का प्रसाद ग्रहण करते हैं, उसके बाद 
36 घंटे का निर्जला व्रत शुरू होता है।
पर्व के तीसरे दिन छठ व्रती अस्ताचलगामी सूर्य को अर्घ्य देते 
हैं,  इस दिन व्रती सूप में ठेकुआ, सठौरा जैसे कई पारंपरिक 
पकवानों के साथ ही केला, गन्ना सहित विभिन्न प्रकार के 
फल रखकर उगते सूर्य को अर्घ्य देते हैं जिसके बाद इस पर्व 
का समापन हो जाता है।

 

 

चौथे व अंतिम दिन उदीयमान सूर्य को अर्घ्य प्रदान करने के 
बाद छठ का समापन करते हैं जिसको पारण कहा जाता है, 
जिसमें व्रती पूजा के बाद प्रसाद खाकर अन्न-जल ग्रहण करते 
हैं। छठ लोकआस्था का महान पर्व है, इसका व्रत कठिन होता 
है। छठ के प्रसाद का भी विशेष महत्व है, जिसे ग्रहण करने के 
लिए लोग दूर-दूर से व्रती के घर आते हैं।
 
When you call, please mention that you found that details at globizindia.com

Location : Patna, Bihar


Product Condition : Used     Product Category : Entertainment


LIVE: अस्ताचलगामी भगवान सूर्य को दिया जा रहा है पहला अर्घ्य



Contact Information

Posted By
  Globiz News
Contact No.
  9990566603
Email
  Not Shown
Website (if)
  globizinfotech.com
Add Approved
  Yes
Posted on
  31 October, 2017 at 11:05 pm
Share This Add
     

 

Similar Entertainment in Patna, Bihar